यश का दिलों पर राज

yash-chopra
Yash Raj Chopra – The Gentleman, the Genius

 

तू चला गया तो मानो मौहब्बत का एक ज़माना बीत गया

तू गया तो  मनो दिलों का धड़कना  बंद हो गया

परिंदों की चहचहाहट फूलों का करीब आना

सरसों की  खेतों में  युगल जोड़ियों का घूमना

या फिर लन्दन की सड़कों पर रोमांटिक गीत गाना

अब ये सब ऐसे लगता मानो हो कोई बीता हुआ फसाना

 

रुपहले परदे पर यश का राज करना

किरदारों के दिलों को जोड़ कर था उसे मोहब्बत करना सिखाना

मोहब्बत और उसकी पाकीज़गी को बरक़रार रख

था यश ने दिया रोमांटिक फिल्म  देखने का बहाना

 

प्यार में सताना, प्यार में लड़ जाना

प्यार में गुदगुदाना या  फिर प्यार के बंधन में बांध जाना

यश राज चोपड़ा ने कई एक्टर्स को इन किरदारों की बारीकियों को सिखाया था निभाना

पंचतत्व में विलीन होते हुए भी था उसने सिखाया प्यार में जल जाना

 

आशिकी दीवानापन या फिर हो जुस्तजू

बॉलीवुड में ये सब होती थी तुझ से शुरू

मैं प्यार में पागल तो  नहीं पर तेरा दीवाना ज़रूर था

तू अज्ज हमारे बीच तो नहीं पर बतौर डिरेक्टर तेरा फिलमनामा  कुछ और ही था

तू था तो नफरत  में भी कमसकम एक मोहब्बत का बहाना

आप नहीं तो मोहब्बत भी लगता है बेमाना सा

 

फिल्मों की फैरिस्त हमें गिनाना आता नहीं

तेरे काम पे हमें कुछ कहना भाता नहीं

यूं तो मैं दिल लगाता नहीं

तुझ जैसे फिल्मों का निर्देशन मैं कर पाता नहीं

आपको इज़्ज़त करते हैं ये है सही

कभी बादलों के उस पार मिलेंगे तो बैठ बात करेंगे कहीं

 

तूने ज़िन्दगी में बड़ी गहरी छाप छोड़ी

इंजीनियरिंग करते करते निर्देशन में आपने छाप छोड़ी ये बिलकुल है सही

८० साल के पारी को बाखूबी निभाया

बतौर निर्देशक मोहब्बत के बादशाह का ख़िताब हासिल किया

हर दिन , हर पल हर लम्हे हर सेकंड को तूने बखूबी जिया

 

धुल का फूल से लेकर जब तक है जान का सफर पांच दशक से भी लंबा चला

८० की उम्र में तेरी ज़िन्दगी का साँझ ढला

तेरी चिता के साथ था मोहब्बत की एक और अनसुनी दास्तान था जला

उसी के साथ हिंदी फिल्म जगत ने खोया एक होनहार बीटा और उसकी कला

 

आज अरिजीत कहता है तू अमर रहेगा सदियों के लिए

क्योंकि तेरे लिए हम हैं जिए

हर आंसू पिए

दिल में मगर जलते रहे चाहत के दिए

तेरे लिए तेरे लिए

 

दिल तो आज भी धड़कता है तेरे फिल्मों  में

तेरी फिल्में देख भी अपने चाहने वालों को  ई लव यू कहते हैं

दिलों को धड़कने वाला था  बादशाह जिसे हम यश राज  चोपड़ा   कहते थे

रोशन है तुझसे ये ज़मीन और आसमान

पर जाने तू अब है कहाँ।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s