कभी सचिन की वाह वाही किए बिना ही गुरु रमाकांत आचरेकर ने उन्हे बना दिया क्रिकेट का भगवान

एक अच्छे बल्लेबाज़ होने के साथ साथ सचिन रमेश तेंदुलकर को कई उपाधियों से नवाज़ा जा चुका है. उन्हे मास्टर ब्लास्टर और लिट्ल मास्टर जैसे नामों से अक्सर पुकारा जाता है. पर उन्हें भी एक बात का मलाल ज़िंदगी भर … Continue reading कभी सचिन की वाह वाही किए बिना ही गुरु रमाकांत आचरेकर ने उन्हे बना दिया क्रिकेट का भगवान

आतंक के बदनाम गलियों को छोड़ वाणी ने देश के लिए जीवन त्याग दिया

बड़ी अजीब बात है. एक ऐसे दौर में जब हम आतंकवाद को जड़ से ख़तम करने की बात कर रहे हैं, तो वंही एक ऐसा कहानी सामने आता है, जो बताता है की मौका मिले तो आतंकी भी वतन के … Continue reading आतंक के बदनाम गलियों को छोड़ वाणी ने देश के लिए जीवन त्याग दिया

तो सियावर रामचंद्र हों, या फिर लंकापति रावण, जानिए उनका जीवन इस सफ़र पर

देश में राम का नाम बड़ी ज़ोरो शॉरों से लिया जा रहा है और ऐसा हो भी क्यूँ ना क्यूंकी राम हम सब के लिए गौरव के प्रतीक हैं. इसी बीच एक ऐसे रामायण सर्किट की शुरुआत हुई है जो … Continue reading तो सियावर रामचंद्र हों, या फिर लंकापति रावण, जानिए उनका जीवन इस सफ़र पर

एक ऐसी शाही प्रेम कथा जिसने लिख दी करवा चौथ की इबारत

आपने अक्सर लोगों को ताना मारते सुना होगा की बड़ी सती सावित्री बनती है, कभी आपने सोचा की क्यूँ सावित्री को एक आदर्श नारी माना जाता है और हर साल करवा चौथ लोग मनाते हैं. चलिए जानते हैं. सावित्री मद्रा … Continue reading एक ऐसी शाही प्रेम कथा जिसने लिख दी करवा चौथ की इबारत

हंसते हुए चाँद को क्यूँ देखना गणेश चतुर्थी पे पढ़ता है भारी?

गणेश को लोग विगनहर्ता के रूप में जानते हैं. लोग उन्हे सबसे पहले पूजते हैं पर उनका एक विकराल रूप भी है. कहानी उस गणेश की जिसने खुद चंद्रमा को श्राप दे दिया था की वो कभी दिखेंगे ही नही. … Continue reading हंसते हुए चाँद को क्यूँ देखना गणेश चतुर्थी पे पढ़ता है भारी?

वो मखमली आवाज़ का जादूगर जिसने पंडित नेहरू को धराशायी कर दिया था

मखमली आवाज़ के जादूगर मोहम्मद रफ़ी एक बहुत ही हर दिल अज़ीज़ फनकार थे. जिस पाकीज़गी के साथ वो भजन गाते थे उसे सुनने के लिए हर शक़स बेताब रहता. अनगिनत हिट्स दे चुके रफ़ी उन चुनिंदे नगीनों में से … Continue reading वो मखमली आवाज़ का जादूगर जिसने पंडित नेहरू को धराशायी कर दिया था

1971 युद्ध के एक जाँबाज़ हिन्दुस्तानी जासूस के किरदार में काफ़ी जच रही हैं आलिया भट्ट

आलिया भट्ट का कॉफी वित करन का शो किसे नही याद होगा. उस शो के लिए उन्हे काफ़ी मज़ाक झेलने पड़े थे लेकिन वो उन सब से उभर के एक नायाब नगीना बन के बॉलीवुड में उभरी हैं. राज़ी का ट्रेलर आज कल चल रहा है एक बार फिर वह चर्चा का विषय बनी हुई हैं अपने रोल के लिए. ये मई 11 को रिलीस होगा संस्कृत में कहते हैं “जलमेव यस्या बालमेव तस्या” अर्थात जो समुद्रा को जीत सकता है वो सबसे बलवान होता है. आज भारत को INS विराट पे गौरव है पर अगर सहमत ना होती तो … Continue reading 1971 युद्ध के एक जाँबाज़ हिन्दुस्तानी जासूस के किरदार में काफ़ी जच रही हैं आलिया भट्ट

A Karva Chauth night that planted idea of Indiyapa in Captain Vinod Dubey’s mind

Captain Vinod Dubey and his fellow colleagues were travelling from Australia to Japan onboard a ship. It was a Karva Chauth day and he would repeatedly turn a gaze towards the starry sky in search of the moon. He had also asked his close friends to inform if they spotted the moon while on a cleaning task on the deck. With many surprised as to what was going on, they enquired of this typical curiosity. Vinod told them that this was a day when a better half fasts for the entire day in India and then breaks her fast after … Continue reading A Karva Chauth night that planted idea of Indiyapa in Captain Vinod Dubey’s mind

राजस्थान के पाली में श्रद्धा के पात्र 350cc के बुलेट बाबा भी हैं पूजनीय

भारत देश में माना जाता है की 33 क्रोर देवी देवताओं का वास है. हर भारतीय धरम के नाम पर किसी भी हद तक जा सकता है. ऐसे समय में जब सड़क हादसों पर बड़ी देश व्यापी बहेस चल रही … Continue reading राजस्थान के पाली में श्रद्धा के पात्र 350cc के बुलेट बाबा भी हैं पूजनीय

कभी 2000 महीने में कमाने वाले किसान का बेटा आज सिंगापुर में लाखों में खेलने चला

मज़दूरी और हर रोज़ की भागम भाग का दर्द झेल चुके दिलीप साहनी के परिवार के लिए दौलत क्या चीज़ होती है उसका अंदाज़ा लगा पाना अब तक काफ़ी मुश्किल था. जहाँ दो जून की रोटी की जद्दोजहद थी तो बच्चों की परवरिश कर पाना भी बायें हाथ का खेल कभी नही था. दिलीप के पिता पेशे से किसान और ऑफ सीज़न में आइस क्रीम बेच कर घर वालों का पालन पोषण करते थे. दिलीप जिसे बहुत ही कम पैसे में गुज़र बसर करना पढ़ता था उसने कभी नही सोचा था की एक दिन ऐसा भी आएगा जब उसकी किस्मत … Continue reading कभी 2000 महीने में कमाने वाले किसान का बेटा आज सिंगापुर में लाखों में खेलने चला

किसे मालूम था येल में घुटन महसूस करने वाला हरफ़नमौला टॉम एक दिन बहुत बड़ा सितारा बनेगा

    किसी भी कलाकार के लिए सबसे बड़ा होता है उसका उसके ऑडियेन्स से लगाओ, और किसी भी थियेटर से जुड़े कलाकार के लिए और भी ज़रूरी हो जाता है की वो मंच पर ज़्यादा से ज़्यादा समय बिताए. टॉम आल्टर की कहानी इस लिए प्रेरणादाई है क्यूंकी ऐसे समय में जब विदेश में पढ़ाई करना एक ट्रेंड बन गया है, ऐसे में टॉम आल्टर येल यूनिवर्सिटी के गलियों को छोड़ भारत का नाम रोशन करने के लिए परदेस चले आए अपने धरती अमेरिका से. टॉम आल्टर अपने आखरी दिनों में स्टेज 4 स्किन कॅन्सर से ग्रसित थे पर … Continue reading किसे मालूम था येल में घुटन महसूस करने वाला हरफ़नमौला टॉम एक दिन बहुत बड़ा सितारा बनेगा

आठ दशक बाद भी बंगालीयों का बीरेंद्र कृष्ण भद्र के श्रुति मधुर चन्डीपाठ पर विश्वास अटल

    महालया आते ही बिरेंद्र कृष्ण भद्र की महिषासुर मर्दिनी  अभी भी सुबह बंगाली घरों पर दुर्गा पूजा की भावना के रूप में मा का स्वागत करते हुए सुबह चार बजे चलाया जाता है । महालया पृथ्वी पर देवी दुर्गा की यात्रा की शुरुआत है। पिछले आठ दशकों में अभी तक इतना परिचित चन्डीपाठ का एक बेहतर संस्करण होना बाकी है। हजारों घरों में रेडियो शो सुना गया  जो बंगाली परिवारों में कई वर्षों से एक आदर्श रहा है। महालया में कई लोग अपने पूर्वजों की विशेष पूजा करते हैं, उनकी आत्माओं की शांति के लिए कामना करते हैं। … Continue reading आठ दशक बाद भी बंगालीयों का बीरेंद्र कृष्ण भद्र के श्रुति मधुर चन्डीपाठ पर विश्वास अटल