Capital lockdown: Haunting silence in a city that exudes culture

Photo by Engin Akyurt on Pexels.com

Lucknow all of a sudden plunged into darkness. Shops closed. Desserted roads and the fear of an unseen viral enemy pervades the confines of the city. There is palpable tension as the number of cases of the Novel coronavirus rise. Adding to that the Tabligi Jamaat community spreading fears have trebled the problem even more, with 12 hotspots totally sealed barring the usual lockdown protocol.

While big corporates allow their workers to operate from home, the fruit and vegetable vendors along with food and medicine outlets continue to remain stocked up for essential items that could aid natural hunger pangs. Panic buying and repeated cases of social distancing violations have continued to roil the city, much like other parts of India.

Under bridges a line of stools, benches and shacks dot the roads as the owners of these not so swank eateries have decided to stay at home. Mile after mile roads remain pitch dark with no sign of human existence, as all remain socially isolated. Shutters are closed. Sanitization at several pockets is being done to maintain the needed anti viral check.

Lucknow turned a virtual ghost town as the fear of the Novel Coronavirus spread across the length and breadth of the city. There are growing fears that the Coronavirus impact could reach stage 3. The official confirmation of stage 3 is part of the WHO responsibility, but everyone has been asked to stay extra cautious, especially the PM speech has been significant to send a point across. Beggars are forced to sleep on the streets. Already the unskilled workforce has had to go door to door for work or begging for alms.

Print media outlets have found it hard to deliver the paper in most parts of the state. With posh colonies and apartments locked many civic workers are spending hours sanitising parks and bus stands.

Bigger queues and dwindling stocks have been reported from the vegetable mandis.  Meanwhile mass exodus has led to a major concern for those who think those earning daily minus a roof must be taken care of. Many have had to walk for miles together, especially those labourers from Bihar and Uttar Pradesh.  Trucks have stopped plying. Often resulting in leaving the truck drivers stranded. As a result they are left with no means to move to and from Lucknow’s Transport Nagar area. Delivery truck drivers have found it tough to fill their belly as shops remain shut due to the lockdown. These drivers hail from Tamil Nadu, Karnataka, Bihar, and many other states.

With no work, daily wagers like rickshaw pullers are either busy  cooking or enjoying board games.  Cops having a hard time have been captured by the media playing with stray dogs. The UP government has already announced a package for 1.65 crore families of daily wagers (one month of ration and Rs 1,000 per month.)

The city of Lucknow continues to remain in total lockdown mode. With increasing number of patients in the capital of Uttar Pradesh due to Coronavirus, the district administration has ordered a lockout in many areas of the city, showing caution. Major establishments including hotels, cafes have been closed. District Magistrate Abhishek Prakash in the order has cleared that all the bars, cafes, lounges, hair salons, beauty parlors etc will stay closed. Food stalls, restaurants, dhabas, refreshments in Lucknow will also stay closed.

Khurram Nagar (from Mahanagar crossroads to Kukrail forest area entrance, Kanchana Bihari Marg), Kalyanpur, Shivani Vihar, Abrar Nagar, Kamla Nehru Nagar, Vikas Nagar, Tedhi Pulia to Gulachin Mandir to Kapurthala intersection, Kapurthala intersection to Mahanagar PAC Gate and the area on either side of Khurram Nagar via wireless crossing from Mahanagar PAC Gate to Rahim Nagar intersection, Kukarel Nalla and Terhi Pulia Kursi along with all offices, establishments and institutes in Aliganj, Mahanagar, Gudamba, Indira Nagar remain closed. Bhootnath, Aminabad Stationery Market and Chowk Sarafa Market are closed as well.

The total lockdown now has barred hospitals, pharmacists, medical stores, pathology and other essential centres. Gas, milk, ration shops etc are still running. through the weekend. The traders of both the places have decided to keep the market closed due to the fact that the infection does not spread.

As rumours of shutters of everything including essential goods increasing, there were also people who stepped up the purchase of household goods. People bought double and triple the amount and deposited it in the house. Some people are stocking up more vegetables. Customers who used to carry two-three kg potatoes are carrying 10 kg now.

At the same time, there is a huge crowd in ration shops. At Fatehganj Galla Mandi those who used to take ration for a month, they took 6 months ration. According to the Lucknow Petrol-Diesel Association, where two lakh liters were sold daily, the sales have been reduced from one to one and a quarter lakh liters at present.

Action is being taken against the violator of this order under Section 188 of IPC. Meanwhile Bollywood singer Kanika Kapoor also made headlines in lieu of the Coronavirus impact. 

Reports show that the virus is spreading from one human to the other. In the state capital Lucknow, several cases have come to light of Corona which has further fuelled the debate around how best to arrest its spread.

The other issue doctors face are junior doctors who were treating the patients infected by the virus. Even the relatives of the doctors are under the Corona scanner. In the words of the CMO SNS Yadav, the infection in junior doctors is true.

Photo by Korhan Erdol on Pexels.com

A study out recently finds that the virus can survive on hard surfaces such as plastic and stainless steel for up to 72 hours and on cardboard for up to 24 hours. Officials say self-quarantining is good for two weeks if you’ve had exposure to somebody with the virus and might be infected. It’s a way to monitor if symptoms develop and, at the same time, avoid any possible spread to others. Since the incubation period for the virus is up to 14 days, you’re “cleared” for the virus after two weeks.

India has reported 5,734 cases of Coronavirus, 473 have recovered and 166 have died in India. Reportedly, the number of COVID – 19 cases is 387 in UP, 22 in Lucknow alone.

प्रदेश के अन्नदाता पर भारी कोरोना का मार, भविष्य पर गहराती उनकी चिंता

Pic courtesy Imagesbazaar.com / Representative Pic

मथुरा के महेंद्र सिंह कुछ दिनों से खांस रहे थे और छींक रहे थे। भारत में बढ़ते कोरोना के डर, उत्सुक और असहाय होने के बीच, उन्होंने डरते हुए अपनी जान ले ली । भारत प्रतिबंधों के तहत है, किसान जो इस देश की जीवन रेखा हैं, वह असहाय महसूस कर रहा है। अफसोस की बात है कि उन्होंने कभी मेडिकल टेस्ट नहीं कराया। मुंडेसी गांव के एक निवासी उन्होंने कुएं में कूदकर अपनी जीवनलीला समाप्त कर ली, जहां से उसके शरीर को निकाला गया । 36 वर्षीय चौथे किसान थे जिन्होंने कोरोना के समय में अपनी जान ले ली। उनका राज्य में यह चौथा आत्महत्या है। इससे पहले 24 मार्च को बुखार और खांसी से पीड़ित एक युवक ने कानपुर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली, उसे डर था कि वह कोरोनोवायरस से पीड़ित है।

पिछले महीने, दो अलग-अलग घटनाओं में, हापुड़ और बरेली में दो युवाओं ने आत्महत्या कर ली। ये सभी प्रदेश के किसान बिरादरी से हैं जिनको आने वाले समय के परिस्थितियों,  ख़ासकर कोरोना तांडव से डर तो लग ही रहा था, उनके  मन में खेती किसानी का आगे  का रास्ता भी कचोट रहा था।

म.प्र, राजस्थान और उत्तर प्रदेश पहले से ही कटाई के बीच में हैं, जो अगले एक सप्ताह  भर और समय की बात है । लॉकडाउन के कारण किसानों को कटाई हुई उपज को मंडियों तक ले जाना असंभव हो रहा है। राज्य यह महसूस कर रहे हैं कि यदि फलों और सब्जियों की कटाई प्रभावित होती है, तो इससे कीमतों में अचानक उछाल आएगा। फसल के मौसम में दो सप्ताह, किसानों को नुकसान होता है कि कैसे काम पूरा किया जाए क्योंकि सरकार ने वाहनों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाया है। घर पर रहने वाले किसानों के साथ ड्राइवर और मजदूरों ने फसल काटे जाने में कठिनाई की शिकायत की है।

कोरोनावायरस महामारी एक ऐसे समय में आई है जब देश में फरवरी – मार्च के मौसम का अप्रत्याशित रूप देखा गया है। बारिश और ओलावृष्टि से रबी की फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। भारत में किसान लगातार तनाव में बने हुए हैं। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने किसानों के साथ पूरी सहानुभूति जताई है। फसल की कटाई और रबी फसल बेचने का आह्वान करते हुए, किसानों को आवश्यक कृषि निवेश प्रदान करते हुए, सरकार ने सुनिश्चित किया है कि कटाई शुरू हो।

योगी सरकार ने कई कृषि क्षेत्रों को तालाबंदी से मुक्त कर दिया, जो फल देने लगे हैं। राज्य के किसान लॉक डाउन को ध्यान में रखते हुए अपनी फसल काट रहे हैं। ऐसे किसानों को एक विशेषज्ञ से जुड़ने और बात करने का विकल्प मिलने की आवश्यकता को देखते हुए, जो सही तरह का मार्गदर्शन दे सके, वाराणसी ने अब एक ऐसी लाइन खोली है जहाँ इन किसानों को दिल की बात करने का मौका मिल सकता है। डीएम वाराणसी, कौशल राज शर्मा ने एक कंट्रोल रूम स्थापित किया है जहाँ एक किसान बोल सकता है। विकास भवन में नियंत्रण कक्ष के पेशेवर समस्याओं को हल करने का प्रयास करेंगे।

योगी सरकार ने घोषणा की है कि खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर समय पर शुरू होगी। इसी क्रम में 2 अप्रैल से सरसों, चना और मसूर की खरीद शुरू हो गई है, इससे बुंदेलखंड और आगरा के किसानों को कुछ राहत मिली है। रिपोर्ट कहती है कि सरकार क्रमशः 2.64 लाख मीट्रिक टन सरसों, 2.01 लाख मीट्रिक टन चना और 1.21 लाख मीट्रिक टन मसूर एमएसपी किसानों से खरीदेगी। ये खरीदारी 90 दिनों के लिए होगी।

दूसरी ओर, चालू रबी सीजन में फरवरी-मार्च का मौसम अप्रत्याशित रहा है। सरकार ने बीमा कंपनियों से किसानों को समय पर नुकसान की भरपाई करने का आग्रह किया है। सभी जिलों के डीएम को इस सर्वेक्षण कार्य के लिए बीमा कंपनी के साथ कृषि और राजस्व विभाग के कर्मचारियों को पास जारी करने का निर्देश दिया गया है। 90 हजार से अधिक किसानों के आवेदन बीमा कंपनियों के पास आए हैं। देश में 85 प्रतिशत किसानों के पास तीन एकड़ से कम जमीन है और उनकी फसल का पूरा पैसा ब्याज सहित कर्ज चुकाने में खत्म हो जाता है।

खाद्यान्न उत्पादन के बावजूद, ये किसान मजदूरी कमाते हैं और दुकान से अपना घर का राशन खरीदते हैं। विशेषज्ञ व्यापक रूप से बताते हैं कि तालाबंदी के दौरान अन्य देशवासियों के साथ-साथ छोटे और मध्यम किसानों और मजदूरों को राशन देना अनिवार्य होना चाहिए। जबकि भारत कोरोना से सुरक्षित रहने की कोशिश कर रहा है है, किसान आने वाले दिनों में फसलों और देशवासियों के भोजन के बारे में सोच रहे हैं। उत्तरी भारत में पिछले महीने ओलावृष्टि के कारण सरसों, मसूर आदि की फसलें नष्ट हो गई थीं, आज गेहूं और अन्य रबी फसलें तैयार हैं और लॉकडाउन खत्म होने से पहले कटाई का समय आ जाएगा। किसान और संबद्ध क्षेत्रों को सुरक्षित रखने के लिए सरकार द्वारा 100 रुपये प्रति क्विंटल अनुदान देने की घोषणा की जा रही है। पिछले महीने की ओलावृष्टि से किसानों को हुए नुकसान की भरपाई बीमा कंपनियों या सरकार को ही करनी चाहिए।

संपादकीय अब सरकार से छह महीने के लिए ऋण चुकौती को स्थगित करने और ब्याज माफ करने का आह्वान करते हैं। पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के किसान गेहूं की कटाई के बाद गन्ने की बुवाई करते हैं। सरसों, मसूर आदि की फसलें खराब हो गई हैं, किसान भी गन्ना लगाने की तैयारी कर रहे हैं।

पिछले कुछ सालों से, 90 प्रतिशत ग्रामीण युवा कृषि से बतौर पेशा दूरी बनाए हुए हैं, उन्हें नौकरी नहीं मिल रही है। जो लोग नौकरी कर रहे थे, उनको नोटेबंदी के चलते काम गवाना पड़ा।

इसके अलावा रियल एस्टेट बाजार में मंदी ने श्रमिकों को गांव में वापस ला दिया है। जिनमें से कई को मानसिक और भावनात्मक कमजोरी के चलते ड्रग्स का सहारा लेना पड़ा है। इसने अपराध के ग्राफ को भी बढ़ा दिया है।

कोरोना से निजात दिलाने के लिए एक अनोखा सुरंग

कोरोनवायरस से लड़ने के प्रयासों को बढ़ावा देने के लिए, उत्तर प्रदेश की राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री के गृह क्षेत्र गोरखपुर में एक सॅनिटाइज़र टनेल नामक एक अनूठी पहल शुरू की है। सॅनिटाइज़र टनेल महेवा फल और सब्जी बाजार में है। विशेष रूप से सुरंग के माध्यम से एक मार्ग कोरोना संक्रमण से बचाने में मदद करेगा।
रिपोर्टों से पता चलता है कि बहुत जल्द बीआरडी मेडिकल कॉलेज में एक सॅनिटाइज़र टनेल आ जाएगी। सैनिटाइजर टनल का उद्घाटन होना बाकी है। जबकि टनेल तैयार है, एक औपचारिक एनओसी की प्रतीक्षा है। सॅनिटाइज़र टनेल में इस्तेमाल होने वाले आवश्यक रसायनों का भी इंतजार किया जा रहा है। इस बारे में भी सवाल हैं कि रसायनों के रिलीज में देरी क्यों हुई है। पुलिस की एक टीम यह सुनिश्चित करेगी कि मंडी आने वाले किसी भी व्यक्ति को टनल के अंदर से गुज़रना पड़े, सुनिश्चित करने के लिए बल तैनात किया जायगा।
20 से 30 सेकंड की छोटी अवधि में, इस सॅनिटाइज़र टनेल में प्रवेश करने वाले व्यक्ति को सिर से पैर तक आसानी से साफ किया जा सकेगा। सेंसर फव्वारे के माध्यम से सैनिटाइजर के आसान रिलीज में मदद करेंगे।

फीका पढ़ता शाह मुमताज़ की नगर आगरा में पर्यटन का रोमांच

Photo by Vijay Sadasivuni on Pexels.com

कोरोना के चलते,  लोगों को शायद ही आज कल कभी वाह ताज कहने का मौका मिलता है। शाहजहाँ और मुमताज के शहर में पर्यटन बड़ा झटका खाया है । शहर में पर्यटन के क्षेत्र में अपंग होने के साथ, बहुत कम लोग इस बात का अनुमान लगा सकते हैं कि कब पर्यटक यहाँ आना शुरू करेंगे । यह व्यापक रूप से माना जाता है कि शासन की नीति भविष्य का फैसला करेगी। जिन लोगों ने पहले से योजना बना रखी थी, उन्हें अपनी यात्रा की योजना रद्द करनी पड़ी। उन्होंने मई-जून के टिकट रद्द कर दिए हैं, लेकिन टूर एजेंट इस राशि को वापस नहीं कर पा रहे हैं। कुछ ने राशि वापस कर दी होगी, लेकिन अब ईएमआई का भुगतान करना मुश्किल हो रहा है।
ज्यादातर आगरा रिफंड एयरलाइन पैकेजों में देखा गया है। एयरलाइंस जो 15 मार्च तक हर रद्द बुकिंग की राशि वापस कर रही थी, अब ऐसा करने से खुद को रोक रही है। ग्राहकों को अब 31 दिसंबर तक किसी और तारीख में समायोजन करने के लिए कहा जा रहा है। ग्राहकों से कमीशन लेने वाले एजेंट अपनी जेब से इतनी बड़ी रकम वापस करने की स्थिति में नहीं हैं।
न केवल एयरलाइंस बल्कि शहर के पांच हजार से अधिक टैक्सी ऑपरेटरों को चार धाम यात्रा, अमरनाथ, शिमला, कुल्लू, मनाली, नैनीताल, लद्दाख आदि की बुकिंग रद्द करने के लिए संदेश मिल रहे हैं। 15 मई से 31 मई तक बुकिंग को अंतिम रूप से रद्द किया गया है। जिनकी बुकिंग 1 जून से 30 जून तक है, इन लोगों ने भी रद्द करने के लिए आवेदन करना शुरू कर दिया। इस अवधि के दौरान लगभग पचास प्रतिशत पैकेज रद्द कर दिए गए हैं।
हाल ही में, कुछ एजेंटों को जुलाई महीने के लिए पैकेज को रद्द करने के लिए कहा गया है। अब एक चिंता पैदा हो गई है कि अगर जुलाई के महीने में भी बुकिंग नहीं हुई, तो वे कैसे बचेंगे। ऑपरेटर अब कर राहत के लिए बुला रहे हैं, अन्यथा वे दावा करते हैं कि उनका अस्तित्व संकट में होगा।

आ गया है देवरिया की धरती पर नन्हा लॉकडाउन

Photo by Wayne Evans on Pexels.com

भारत एक विशाल विविधता का देश है। यूपी में भी विभिन्न समुदायों और जातियों के लोग शांतिपूर्वक साथ रहते हैं। ऐसे समय में जब राष्ट्र कोरोना का सामना कर रहा है, देश इस समय अपने संक्रमण से निपटने के विभिन्न तरीकों के बारे में सोच रहा है। देवरिया में एक परिवार ने कुछ ऐसा किया, जो उन्हें सुर्खियों में लाने लायक बना रहा है।

यूपी के देवरिया जिले में, कोरोना के खिलाफ लड़ाई के दौरान गांव में पैदा हुए बच्चे का नाम लॉकडाउन रखा गया है। यह दुनिया में किसी बच्चे का पहला ऐसा नाम होगा। अन्यथा, कोरोना के साथ युद्ध लड़ने वाले देश इस तरह के नाम की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं।

देवरिया जिले के खुखुंदू गांव में सोमवार को पैदा हुए एक बच्चे का नाम उसके माता-पिता ने ‘लॉकडाउन’ रखा है। पिता ने कहा कि लड़के का नाम हमेशा लोगों को स्व-हित से पहले राष्ट्रीय हित की याद दिलाएगा।

पवन ने कहा कि वह और उनका परिवार लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं और यहां तक कि अपने रिश्तेदारों से भी कहा है कि जब तक लॉकडाउन नहीं हट जाता तब तक वे उनसे न मिलें।

बच्चे के माता-पिता का मानना है कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन लागू किया गया था। देश के हित में कुछ किया और लोगों को बचाने का एकमात्र तरीका है। बालक का परिवार खुखुंदू शहर से है। जब महिला लेबर में गई, तो पूरा इलाका परेशान था कि डिलीवरी लॉकडाउन के बादल के नीचे कैसे होगी। पवन प्रसाद की पत्नी नीरज देवी को रविवार शाम को पीएससी खुखुंदू में भर्ती कराया गया था। हर जगह चुप्पी होने पर वह परेशान हो गई, लेकिन परिवार ने चुनौती स्वीकार की और महिला को प्रसव के तुरंत बाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया।

बच्चे के पिता पवन ने कहा कि बच्चे का जन्म ऐसे समय में हुआ जब पूरा देश कोरोना के साथ लड़ाई लड़ रहा है और देश में तालाबंदी है। ऐसी स्थिति में कोरोना से बचाव का संदेश देने के लिए बेटे का नाम लॉकडाउन रखा गया है।

गोरखपुर में जनता कर्फ्यू ’के दिन पैदा हुई एक बच्ची का नाम उसके चाचा ने कोरोना’ रखा था।

संयोग से, दोनों माता-पिता ‘लॉकडाउन’ और कोरोना शब्द का अर्थ नहीं समझते हैं।

गाँव में एक कोरोना का केस नही फिर भी देश का निर्मल गाँव कौरना,बन रहा हँसी का पात्र, तेज़ी से चर्चा में

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से लगभग 90 किलोमीटर की दूरी पर, गाँव – कौराना, कोरोनावायरस के प्रकोप के बाद से चर्चा का विषय बन गया है, खासकर सीतापुर जिले में।

संयोग से कौरना 84-कोसी परिक्रमा का पहला पड़ाव है। हर साल होली के त्योहार के एक पखवाड़े बाद, हजारों लोग इस परिक्रमा में शामिल होते हैं।  इस गांव की आबादी लगभग 9000 है।

लखनऊ-सीतापुर हाईवे पर गाँव खूंखार कोरोनावायरस के साथ नाम साझा करता है, लेकिन अलग-अलग तरह का है।

गाँव – कौरना – में पूर्व-ऐतिहासिक दिनों का अपना महत्व है और हिंदू धार्मिक स्कंद पुराण में भी इसका उल्लेख मिलता है, जो 18 धार्मिक ग्रंथों में सबसे बड़ा है।

गाँव का मूल नाम करंदव वन था जो कि स्थानीय लोगों द्वारा कौरना के लिए कटाई गई अवधि से अधिक था। गाँव का धार्मिक महत्व भी है।

स्थानीय लोगों का कहना है कि उत्तर प्रदेश के कई अन्य गाँवों के विपरीत, यहाँ का गांव समृद्ध है।

2008 में कौराना गाँव को स्वच्छता के लिए ‘निर्मल गाँव’ के लिए राष्ट्रपति पदक से सम्मानित किया गया । 1986 में गाँव ने उत्तर प्रदेश में 51 बायो गैस प्लांट लगाने के लिए एक लाख रुपये का पहला पुरस्कार जीता

गाँव में एक महिला ग्राम प्रधान (ग्राम प्रधान) और मुस्लिम भी शामिल हैं।

गाँव की समृद्धि का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसमें दो सरकारी सहायता प्राप्त इंटर कॉलेज और एक डिग्री कॉलेज हैं।

इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति जेएस त्रिवेदी, लखनऊ उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति डीके त्रिवेदी, जिला न्यायाधीश जीके त्रिवेदी और पश्चिम बंगाल के पूर्व डीजीपी आरके त्रिवेदी कौराना गांव के हैं। उनमें से कोई भी जीवित नहीं है।

ग्राम प्रधान मंजूश्री त्रिवेदी ने मीडिया को बताया कि कौरना का सदियों पुराना इतिहास है, क्योंकि यह नैमिषारण्य के तीर्थ स्थल के करीब है। कोरोना से तुलना करना निराशाजनक है, उन्होंने कहा।

उन्होंने कहा कि पर्यटन विभाग द्वारा गाँव में द्वारकाधीश मंदिर का जीर्णोद्धार किया जा रहा है और आने वाले दिनों में एक तीर्थस्थल के रूप में विकसित होगा।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार –  एक अन्य निवासी ने कहा कि जब ग्रामीण, पुलिस या एक हेल्पलाइन पर कहते हैं, तो दूसरे छोर पर लोग जगह के नाम के कारण अजीब तरीके से प्रतिक्रिया करते हैं। मंजुश्री त्रिवेदी ने इस बात पर जोर दिया कि अब तक गाँव में, या जिले में भी कोरोनोवायरस संक्रमण का कोई मामला नहीं है।पश्चिम अफ्रीका में उत्पन्न हुए इबोला के प्रकोप के बाद अफ्रीकी अमेरिकियों ने अत्यधिक प्रतिक्रिया झेली और बाद में एक महामारी बन गई। ज़िका वायरस, जिसे युगांडा में एक जंगल के नाम पर रखा गया है, वह भी नस्लवाद की एक अलग बयार लाई । सबसे हालिया उदाहरण कोरोनावायरस का प्रकोप हो सकता है, जिसके बाद दुनिया भर में एशियाई लोगों को इसकी उत्पत्ति के कारण भेदभाव का सामना करना पड़ा।

कोरोना से जंग में आदर्श जेल ने उठा लिया है मास्क बनाने का बीड़ा

आदर्श कारागार एशिया की एकमात्र जेल है जहाँ रहकर कैदी जेल के बाहर रहकर व्यवसाय करने के साथ परिवार का भी संचालन करते है। दुनिया मे कोरोना वायरस से प्रदेश के जेलों में बंद कैदियों को बचाने के लिए महानिदेशक/ महानिरीक्षक कारागार आनंद कुमार ने मास्क बने जाने का निर्णय लिया। इसके तरह प्रदेश की कई जेलों में मास्क का निर्माण कराया जा रहा है।

मिली जानकारी के मुताबिक राजधानी की आदर्श कारागार ने मास्क निर्माण में रिकॉर्ड तोड़ उत्पादन किया है। इस कारागार में अब तक 35 हज़ार से अधिक मास्क बनाये जा चुके है। मास्क का उत्पादन लगातार चल रहा है। आदर्श कारागार के सुपरिटेंडेंट आरएन पांडेय से जब इस संबंध में मीडिया ने बातचीत की तो उन्होंने बताया कि कैदियों के द्वारा निर्मित मास्क की कीमत 5 रुपये रखी गयी है।

पांडेय का कहना है कि मास्क सस्ता होने की वजह से पुलिस प्रशिक्षण महाविद्यालय सीतापुर ने 6000 मास्क की डिमांड की थी उन्हें 2000 भेजे जा चुके है। इसी प्रकार पुलिस हेल्पलाइन 112 ने भी उनसे 2000 की डिमांड की थी उन्हें उपलब्ध करा दिए गए है। इस क्रम में निदेशक स्वास्थ, आरआई पुलिस लाइन समेत अन्य कई विभागों को अब तक 35 हज़ार 192 मास्क उपलब्ध कराए जा चुके है।

सुपरिटेंडेंट आदर्श कारागार पांडेय का कहना है कि मास्क की कीमत कम होने की वजह से डिमांड बहुत है।उत्पादन के हिसाब से विभागों को मास्क उपलब्ध कराए जा रहे है। इसका उत्पादन फिलहाल जारी है। मास्क निर्माण कार्य मे बड़ी संख्या में कैदी लगाये गए है। वह दिनरात मेहनत कर डिमांड को पूरा करने में जुटे हुए है।

प्रदेश की जेलों में मास्क निर्माण की जानकारी लेने के लिए जब महानिदेशक/ महानिरीक्षक आनंद कुमार से बात करने को कोशिश की गई तो उनला फ़ोन नही उठा। उधर अपर महानिरीक्षक कारागार प्रशासन वीके जैन ने बताया कि प्रदेश की जेलों में अब तक 1 लाख 12 हज़ार से अधिक मास्क का निर्माण किया जा चुका है। मास्क निर्माण का कार्य लगातार जारी है।

स्क्रॅप धातू से बनी कला अब बढ़ाएँगी शहर की शान

लखनऊ वर्तमान में एक सौंदर्यीकरण परियोजना से गुजर रहा है, जिससे पूरी तरह से सिटीस्केप बदलने की उम्मीद है. कई नई परियोजनाएं शहर लागू हो रही हैं, जिसमें चित्र, ओवरहेड तारों को हटाना और पुरानी सड़कों और पुलों का नवीनीकरण शामिल है.

अब, लखनऊ में प्रमुख चौराहों का चेहरा बदलने के लिए एक नई परियोजना तैयार की गई है. शहर में जल्द ही स्क्रैप की धातुओं से बनी नई मूर्तियां मिलने वाली हैं, जिन्हें लखनऊ के सौंदर्य  में चार चाँद लग जाएगा . ये लगभग 100 चौराहों पर लगाया जाएगा.

लखनऊ स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत अनगिनत बदलावों के दौर से गुजर रहा है जिसमें कई सौंदर्यीकरण परियोजनाएं भी शामिल हैं। इन मूर्तियों का उद्देश्य लखनऊ में सुस्त चौराहों के साथ-साथ पुरानी धातु और स्क्रैप के टुकड़ों को रीसायकल और अपस्केल करना है. परियोजना यह भी सुनिश्चित करेगी कि ये सुशोभित हों. यह शहर में सड़कों और चौराहों पर एक महत्वपूर्ण बदलाव लाएगा.

वर्तमान में, अभी भी मूर्तियों पर काम किया जा रहा है और सभी चौराहों के नाम जो सुशोभित होने की उम्मीद है, अभी तक सामने नहीं आए हैं. ऐशबाग, कैसरबाग, सिकंदरबाग, पॉलिटेक्निक और कथौता सहित प्रमुख चौराहों पर इन मूर्तियों को स्थापित करने की उम्मीद है. ये विस्तृत मूर्तियां लखनऊवासियों के लिए एक स्वागत योग्य परिवर्तन होंगी, जो चौराहों पर ट्रैफिक लाइट या बुनियादी राउंडअबाउट के आदी हैं.

#गोकोरोना: कोरोना के कहर को ठेंगा दिखाता शहर में वर्चुअल क्लासरूम का युग

Virtual Education Reality : Photo by cottonbro on Pexels.com

समय के साथ साथ परिवर्तन भी ज़रूरी है और एक ऐसे समय में जब दुनिया संकट से गुज़र रहा हो तो हमारा दुनिया के साथ ताल मेल बैठना हमारा असली परिचय देता है. कोरोना ग्रसित बदलते परिवेश में अब शिक्षा को भी अपनी रूप रेखा बदलनी पढ़ी है. लखनऊ जैसे शहर में जो धीरे धीरे दुनिया और मेट्रो शहरों की तर्ज पर आगे बढ़ रहा है, ऐसे में शिक्षा का अगला युग वर्चुयल क्लासरूम की शक्ल में हम सब के सामने है.

हाल में 100 साल पूरा कर चुके लखनऊ विश्वविद्यालय ने कुछ ही दिन पहले इस बात को सार्वजनिक किया, की जब तक कोरोना का कहर जारी रहेगा, विश्वविद्यालय के छात्र वर्चुयल क्लासरूम के माध्यम से पठन पाठन की सारी सुविधायें हासिल कर पाएँगे. LU के शिक्षकों की माने तो इसी चीज़ के मद्देनज़र ई कॉंटेंट मुहैय्या करने का काम अब शुरू हो गया है.      

कुलपति ने सभी प्रोफेसर को अधिकारिक वेबसाइट पर अपलोड करने के लिए सामग्री उपलब्ध कराने को कहा है. जो लोग संकाय का हिस्सा हैं उन्हें उपलब्ध कराते रहने को कहा गया है, वो ओरिजिनल नोट्स बनाके हर टॉपिक के लिए अपलोड करते रहेंगे. कुछ संकाय सदस्यों ने सोमवार को अपलोड भी कर दिया है. स्पोक्सपर्सन डॉ दुर्गेश श्रीवास्तव ने बताया कि http://www.lkouniv.ac.in/article/en/lecture-notes लिंक पर नोट्स है.

इन नोट्स का दायरा काफ़ी बड़ा है. ये सभी विषयों पर मसलन कला, वाणिज्य, शिक्षा, विज्ञान और इंजीनियरिंग के शिक्षकों की ओर से अपलोड कर दिए गए हैं. अध्यापक और अध्यापिकाओं को कहा गया गया है, कि अपने दिए गये मेटीरियल्स को पढ़ते रहें. “हमनें ताज़ा मेटीरियल लोड करने को कहा है हर विषय पर,” मीडीया से कहा ए के राय, वाइस-चॅन्सेलर LU ने.

सिर्फ़ LU ही नही एमिटी  विश्वविद्यालय में भी अब ऑनलाइन क्लासरूम के ज़रिए बच्चे टीचर्स से मुखातिब होते हैं और फिर ज्ञान अर्जित करते हैं. होमवर्क भी उनको टाइम टाइम पे मिलता रहता है, जिससे पढ़ाई भी ना रुके और किसी तरह की हानि बच्चों को ना झेलनी पड़े.  

इससे ना केवल टीचर्स को वर्क फ्रॉम होमे का ऑप्षन मिला है, बल्कि बच्चों को भी संक्रमण से बचते हुए अपने कोर्स को पूरा करने का समय मिल जाता है. साथ ही कुछ पल परिवार के साथ भी मिल जाता है. गौरतलब है की एमिटी  में नोट्स हर सेमेस्टर में उपलब्ध कराया जाता रहा है हर विषय में कोर्स में.

दूसरी ओर शहर के विद्यालयों में भी कुछ ऐसा देखने को मिल रहा है. चाहे  ब्राइटलैंड स्कूल एंड कॉलेज हो या फिर जैपुरिया या CMS, सब अब ऑनलाइन पढ़ा भी रहे हैं, असाइनमेंट भी करवा रहे हैं और पठन पाठन को और सशक्त भी कर रहे हैं. गूगल क्लासरूम के चलते असाइनमेंट्स को बनाना, बच्चों तक पहुँचाना और उसे ग्रेड करना भी एक नया अनुभव है बहुतों के लिए  बिना काग़ज़ की बर्बादी किए.

स्टडी हॉल स्कूल ने भी अब इस नये प्रयास की ओर कदम बदाए हैं. असाइनमेंट और कम्प्लीमेंटरी वीडियोस के ज़रिए अब स्टूडेंट कक्षा  एक से आठ तक ज्ञान अर्जित कर रहे हैं. मीडीया से बात करते हुए प्रधानाचार्य स्टडी हाल स्कूल शालिनी सिन्हा ने कहा है “वर्कशीट्स और प्रॉजेक्ट्स रोज़ जाते हैं. बाकी एक्सप्लेनेर्स  को भी शेर किए जा रहा है.”

पढ़ा लिखा वर्ग जो अब इसे पूरी तरह समझ रहा है, वो भी मानते हैं की, बदलते समय के साथ अगर हमने ये नही सीखा तो हम शिक्षा के पेशे में पीछे रह जाएँगे. सेठ एम आर  जैपुरिया स्कूल में कार्यरत एक अध्यापिका बताती हैं की, ये काम को थोड़ा  और आसान बना देता है क्यूंकी इसे हम डेस्कटॉप, लॅपटॉप, टॅबलेट और मोबाइल सबमे आसानी से चला सकते हैं. दोनो टीचर और बच्चों के लिए ये एक अलग ही एहसास है.

इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए हर शिक्षक को और अध्यापक को एक इ मेल ID दिया गया है जिससे वो लोग गूगल क्लासरूम के इस्तेमाल से स्टडी मेटीरियल दे सकते हैं. कई विद्यालयों और शिक्षा संस्थानों में होली की आस पास ही ट्रैनिंग के प्रोग्राम शुरू हो गये थे, जिससे सब तैयार रहे.

Joy to the world, Corona has come, let earth receive her queen

The world talks about deaths and lives lost courtesy the Coronavirus. People live with the fear of infection and life being snuffed out of them, but one family in Hapur is celebrating life and how even in the darkest of times there is a glimmer of hope. A baby girl born to a girl in the UP district has been named Corona, as the world grapples with the deadly virus.

The parents of this child believe that while Corona is a fearsome viral entity, it should not be feared but it is time for good precautions, so as to ensure things are in order. The couple celebrating the moment treated near and dear ones with sweets. The child was born to this couple at the Gadh Road situated district hospital in Hapur. Naveen Sharma and Bhavya are proud parents to this bubbly young child. The father Naveen believes that more than fear, this is a name that has told the entire world why cleanliness is important.

On similar lines a child was born in Gorakhpur as well who was named Corona. The baby, born in Sohgaura village, has already become the talk of the town. The parents of this child had said that while the PM has called for Janata curfew, the name of the child has been decided to mark this unique development globally. The entire world currently is fighting hard to contain the spread of the COVID – 19 pandemic.  

As social distancing and quarantines become the order of the day, binge-watching movies, reading books and creating memes are a good timepass. A meme that is trending talks about Rapunzel from Disney’s Tangled quarantining herself for 18 years, away from a town named Corona.

On the Hollywood front there is much talk about the movie Contagion, starring Gwyneth Paltrow, Matt Damon and Kate Winslet that refers to a similar virus causing pandemic. Literature afficionados have been talking of a Dean Koontz 1981 novel named The Eyes of Darkness. All in all, one virus is trending in every sphere of life.

Markets get painted in multiple hues, as Lucknow gears up for a colour riot

Once considered a great time to exchange pleasantries and spend quality time with one another. Known as a festival, when even the fiercest of enemies would do that unique jadoo ki jhappi, applying colour on the cheek, repeating that customary yet clichéd line – Bura Na Mano Holi Hai, now Holi in 2020 rides the commercial wave.

With packaging of the festival and its various aspects, in its new avatar, the bonhomie aside, Holi has seen a gradual shift from the healthy revelry bringing with it a commercial aspect where packaging rules in a once childhood merry making festive ritual.  

The festival, now sees greater stress on marketing of Holi goodies leading to new exciting models of sales appealing to the youth. Different brands now try to outdo the other trying to encash what is the buzzing trend of the hour with regards to the younger lot.

This even as the broader Corona scare has had a definite impact on the festive mood and the products that are on sale. Shopkeepers this time have tried staying away from Chinese products to avoid any confusion.

Lucknow’s IT Market is home to 40 shops catering to the Holi fanatic. From tiny miniature water guns to the big ones. Splashed in varied hues of colours and eye catching designs, both traditional and new – age sprinklers of varied shapes, sizes and forms entice the buyer by way of unique appearance that models itself on pop culture characters like Doeramon, Yogi Bear, Snoopy, characters from the DC Universe among others.

Out of the 40 shops that dot the IT Chuaraha colour market, the new entrant are cylinders filled with gulaal that resemble fire extinguishers and are priced high but prove effective to drench each other with sober colours. The special floral, pearl, organic Gulaal like past years meanwhile keeps the Holi buyer excited about the festival with that extra dash of fragrance.

Ravi, a seller confirms that this festival will be different because it will give one a combination of Diwali and Holi. Based on the pattern of Diwali, Gulaal bombs, anaar bombs filled with colours and special sticks with colour, light and a unique sound will give the new age sprinkler freak that much needed Holi high. The usual, Herbal and scented gulaal aside, ranging between Rs 200 to Rs 300, colours of good variety are selling.

In tune with the youth who is enjoying the cartoon and smartphone world – special tanks and PUBG guns between the range of Rs 600 to 850 and cars priced at 650 are attracting the young with deep pockets.

For those in for a colourful Diwali like feel – the cocktail colour combos, Mango bombs, special colour cigars, a colour chatai and the Rambo style colour dispensers releasing two colours in one shot gets the young shelling out that extra chip for the surreal Holi experience.

Mostly Indian goodies are in the market with a miniscule presence of Chinese goods. In aiming to give the Swadeshi goods of India, a much needed push, Indian Holi goodies rule supreme. With India’s Coronavirus scare for real, traders steer clear of anything from the land of the dragon.

Hats mostly exclusive derby hats, cowboy hats and hats for young girls with floral patterns are selling in the market. Rajasthani traditionally headgears are also selling in reasonable rates. The not so expensive caps keep the lower middle class in good stead ranging between Rs 100 and Rs 200. Both colourful and embroidered headgears made of cloth and plastic cost starting from Rs 150 each says another seller at a Lucknow market. Attractive design sarees and salwar suits and children’s wear shops are also buzzing with buyers. Despite malls, the old world charm of an open air market in old Lucknow still attracts many.

In a youth centric sales plan, one can’t help but miss characters like Addams Family, Spiderman, Captain America masks all from pop culture that are priced in a range of Rs 100 and Rs 200. Masks of PM Narendra Modi, Joker’s Joaquin phoenix act cost Rs 250 each.

While people want Indian goods, the Chinese goods on offer range from just Rs 100 to Rs 3000. Often burning a hole in the pocket, Chinese goods have been shirked in many places giving a fillip to the Indian make goods. Indian make Holi goodies do not have side effects and skin remains sans infections, says a Holi regular. 

While reports of chemical laced gulaal in the guise of herbal has surfaced, shopkeepers are heard confirming that Chinese and chemical sprinkled colours are off shelves this year. Herbal gulaal made of araroot continue to be the best bet. Gulaal prepared from lime, chalk, sand along with other hazardous components has been introduced in the market along with mica which reports call dangerous. 250 tonnes of abeer and gulaal is present in the Lucknow market alone say official sources. Gulal  is present in Lemon Green, Apple, Strawberry and Orange Flavor which gives the Lucknowite a different feeling.

Estimates say 80 to 120 rupees a kilo abeer is real and the remaining variety is fake hint some. Around a 100 tonne abeer and gulaal has come from Hathras and Mathura as per confirmed reports. Reportedly flowers, petals together help create very useful ecofriendly colours. In recent years, the Palash flowers have been very helpful in playing Holi much like Besan and Haldi colours. Thorns of the Gwarpatha also known as Aloevera adds to the herbal quotient. The green paste made out of it can then be used for Holi purposes. Furthermore, Parijat and tesu flowers add to the safe Holi experience.

Sprinklers start at Rs 50 – 60 which is the smallest size and then the full size is as steep as Rs 2500. People from all age groups are turning up to get their colours, sprinklers, masks and decorative goods. Carrying the Barbie tag water tanks cost a steep Rs 600. Special bag shaped sprinklers and other new models are fast selling as a range of Rs 100 to Rs 1000 keeps the buyer in good spirits says Abdul Kalam.

Gulaal cylinders are priced as steep as Rs 2000. It has a spray of gulaal which comes out in powdery or spray form. The basic sprays come in three different sizes – 1.5 litre, 1 litre and 2.5 ml ranging between Rs 50, Rs 150 and Rs 200.

In Munshipulia, sprinklers with Holi songs playing as you press the nozzle, charges Rs 450 each. Musical pipes, lightpipes and other attractions remain a crowdpuller for the first time. In Munshipulia, Chinese goods have this year taken a back seat. It is a good feeling that Indian sellers are being supported says one seller. The Gulaal Party Popper has a sudden gush of colours coming out says Ram Singh. The light pipes cost anything to the tune of 250 and the musical pipes are around Rs 300.

A seller, Akshay, though admits that at some parts its a 50:50 presence between Indian and Chinese. People are going in for the indigenous Indian make for the simple reason that it is homemade by local workers and it promises quality over too much shoo sha. Some sprinklers can range between Rs 25 to Rs 2000.

Photo by Yogendra Singh on Pexels.com

In Aminabad, sprinklers come in various shapes and sizes. A 10 colour set of herbal colours costs Rs 150. Chinese, Malinga hats, horse race hats, and caps with hair attached. PUBG sprinklers, Doraemon sprinklers, Balloon knot launchers, Cocktail anaars keep the buyer in good humour says, another seller Kamal Kant

Information coming in suggests that in the past two months Chinese goods could not be imported. With Chinese off shelves, playing Holi is turning into an expensive affair say some. Chinese sprinklers, masks, balloons and other colourful goodies are far from the reach of the average Holi reveller. Stocks this year reportedly have run relatively dry. Indian stuff is 15% to 25% more expensive.

Apart from Aminabad, Munshipulia, Bhootnath and IT College, the other markets that are doing brisk business are Yahiyaganj, and Raqabganj. These are markets in the Old city area where stuff is sold at wholesale rates in bulk. Moving to select markets like Aminabad, Chowk, Nishatganj, Kapurthala, Bhootnath, Alambagh, Patrakarpuram gets people an offer of choice.

With stocks down, the consequent impact has been seen in the prices where a 50% shooting up of prices has been recorded. What would usually cost Rs 30 is now costing 40 to 50 rupees.  Gift packs are priced at Rs 199 and Holi colours usually selling for Rs120 are now pegged at 150.

As Holi nears there are already predictions that there will be a sizable impact on sales. Meanwhile for the average foodie out there, the customary gujia bite too is taken care off. The sweetness of this festival is further enhanced by the delicious Gujia. Markets are also flooded with a variety of chips, papad and namkeen.  A sudden peak in prices at the Khova mandi too is being noticed.

All in all, this Holi choose your budget wisely and get your colour gear in place for that one shot of colours aplenty.

Slightly edited version was first published in The Lucknow Tribune, Lucknow’s only English weekly

Kajol’s Devi brings out deep rooted perversion that goes beyond age

As India continues to wait for that day when the rapists of Nirbhaya will be hanged till death, the repeated delays and twists and turns in the hanging fast begs us that question, what kind of a lala land are we turning into. A country where the criminal continues to breathe while an innocent girl is brutalized, tortured and left to die, often dying a painful death. A country where one worships a goddess, but the feminine form of the goddess, in real life is shamelessly scarred for life.

Kajol starrer Devi, a 13-minute short film made under the Large Short Films Banner pushes the boundary further to show us where we are reaching, as not even a young child is safe. Set inside a room, the film has women of all hues who have fallen prey. A housewife, a woman in burkha, a group of old Marathi ladies, a student preparing for her exam, a corporate worker and a rich young girl addicted to alcohol. Some burnt, molested, raped or some facing an acid attack.

The list of traumatic experiences continues. As such people away from the curious eyes of the public jostle for space in a small room where multiple victims spend time, a report suddenly starts bothering the people there as yet another person of the fairer sex has been violated. A fight breaks out on who would play the sacrificial lamb so that the victim can get a safe haven. It is the conversations that start that bring out the emotions around how age, dress sense, professional arena and relations aside, a man often veers away from the right track and scars a woman for life.

Bringing out how even a burqa clad woman is as susceptible to rape as a mini skirt wearing lass. It also says the most gruesome of rape modus operandis might exist, but the shame that it brings with it is far more deep and painful. The climax comes in the form of a little child who walks in with Kajol who typifies the deep rooted perversion that has seeped in. In India, every 22 minutes a woman is raped.

As per a Thomson Reuters report India is the most insecure interms of rapes. Indian courts have a backlog of more than 1 lakh rape cases. Each day close to 90 rapes are reported in India. The conviction rate in rape cases is just 32%. Crime rates in rape cases are higher in India where nearly 80% of women worship goddesses. Film stars women like Kajol, Neha Dhupia, Neena Kulkarni, Mukta Barve, Rama Joshi, Sandhya Mhatre, Shivani Raghuvanshi, Shruti Haasan, Yashaswini Dayama. It is produced by Ryan Stephen and Niranjan Iyengar and Directed by Priyanka Banerjee. It has been edited by Sanjeev Sachdeva.